greatest swords of Indian history - wikifeed
This article is about the greatest swords of Indian history
story

हमारे भारत इतिहास की सबसे खतरनाक योद्धाओ की तलवारे…

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

हमारे भारत इतिहास की सबसे खतरनाक तलवारे (This article is about the greatest swords of Indian history)

This article is about the greatest swords of Indian history इस आर्टिकल में हमने भारत के इतिहास की खतरनाक तलवारो  के बारे में बात करने जा रहे है जैसा कि हम शिवाजी महाराज की तलवार (Shivaji Maharaj sword) के बारे में जानते है उनके पास तुलजा तलवार (Tulja Talwar), भवानी तलवार (Bhawani Talwar), और जगदम्बा तलवार (Jagdamba Talwar) थी वेसे ही महाराणा प्रताप की तलवार (Maharana Prtap sword) और पृथ्वीराज चौहान की तलवार (Prithviraj Chouhan sword) भी इसिहास के पन्नो में अपनी धाक कायम किये हुए है अभी हाल ही में ब्रिटेन ने टीपू सुल्तान की तलवार की नीलामी की थी (recently british sold tipu sultan sword read more this article)…

greatest swords of Indian history - wikifeed
This article is about the greatest swords of Indian history

अपने शाशन शक्तियो और ताकत का प्रदर्शन युद्ध को न्योता देता है. और युद्ध के योद्धाओ के लिए महान योद्धाओ कुछ महान तलवारे इतिहास के पन्नों में अपनी पूरी शान के साथ लहरहि। आज हम उन तालवरो के बारे में बात करंगे जिन्होंने बड़े – बड़े सूरमाओ को एक ही झटके में खंड – खंड कर दिया। उन योद्धाओ की तलवारो के बारे में जानेगे जिन्होंने योध के मैदान में अपनी धाक कायम कर दी.

आज से 800 साल पहले चले तो भारत अस्त्र- शस्तर का बहुत बड़ा सौदागर हुआ करता था. भारत में तरह तरह के हत्यार बनाये जाते थे. ये हतियार भारतीय लोग अर्बीयो को बेचा करते थे. इन्ही हत्यारो को अरबी यूरोपियो को बेच देते थे. एक ऐसी ही तलवार यूरोप में है. जो पूरी दुनिया की सबसे ताकत तलवार मणि जाती है. इस तलवार ने अपना रुतबा कायम किया हुआ है. इस तलवार का नाम है ‘Damascus’ The great sword इसी तलवार को अरब देश में ‘अश – शरीफ – अल – इदरीसी‘ इसी तलवार से सीरिया के सुल्तान सलाहुद्दीन ने युद्ध के समय कहर मचा दिया था. इस तलवार ने घोड़े को सहित योद्धाओ को काट डाला था. इस तलवार की बनावट पूर्ण रूप से शाष्त्रीय-शास्त्र कला पर आधारित थी. जो भारतीय बाजारों से अरब देशो में गई थी. जिसके बदले अरबी हमें घोड़े दिया करते थे. आये अब हम भारत की महान योद्धाओ के तलवारो के बारे में जानते है.

This article is about the greatest swords of Indian history

  • Shivaji Maharaj sword
  • Maharana Prtap sword
  • Prithviraj Chouhan sword
  • tipu sultan sword

छत्रपति शिवजी महाराज की भवानी और जगदम्बा तलवार (Bhavani and Jagdamba Talwar of Chhatrapati Shivji Maharaj)

भवानी तलवार: मानियता थी की भवानी तलवार छत्रपति शिवजी महाराज (Chhatrapati Shivji Maharaj) को खुद राज राजेस्वरी माँ भवानी ने दी थी. इसके बाद तुलजा तलवार (Tulja Talwar) को शिवजी महाराज (Shivji Maharaj) के पिता शहाजी महाराज ने दी थी. और वोही जगदम्बा तलवार (Jagdamba Talwar) के पीछे का राज यह है की शिवजी महाराज 7 मार्च 1659 को कोंकण दौरे पर थे। तभी महाराज के एक योद्धा अम्बाजी सावंत ने एक इस्पेनि जहाज पर हमला बोल दिया। जहाज से उन्होंने पुर्तगाल के सेनापति दियोगफर्नाडिस की एक बहुत खूब सूरत एक तलवार पाई इसके ठीक बाद 16 मार्च को महाशिवरात्रि पर शिवजी महाराज महादेव के दरबार में पधारे यहा अम्बाजी के बेटे कृष्णा जी ने शिवजी महाराज को ये तलवार भेट दी. ये एक ऐसी अद्भुत तलवार थी जिसे देख महारज ने तुरंत आदेश जारी किया की मेरी सेना के सभी सेनिको को ऐसी ही तलवारे दी जॉए जिसके बाद स्पेन के राजा ने ऐसी तलवारे बनवाने के लिए महाराज को सन्देश भिजवाया उसी के साथ इस्पेन के टोलेडु शहर से एक तलवारो का जखीरा महारज की सेवा में पेश किया गया. इन्ही तलवारो के साथ इस्पेन के राजा ने शिवजी महाराज के लिए रत्नो से जड़ी एक विसेष तलवार भी भेजी। इसी तलवार को शिवजी महाराज ने जगदम्बा नाम दिया था.

Shivaji Maharaj sword
This article is about the greatest swords of Indian history

महाराज ने जगदम्बा तलवार अंग्रेज अपने साथ इंग्लैंड ले गए जब की दो तलवारे कई सालो से लापता है भारत सरकार ने कई बार ब्रिटेन से महाराज की तलवार लौटाने के लिए कहा. लेकिन ब्रिटेन अभी तक तलवार देने को राजी नहीं हुआ है.

महाराणा प्रताप की तलवार (Maharana Pratap’s sword)

हमारी इतिहास के अमर यौद्धा महाराणा प्रताप (Maharana Pratap) के सामने पूरी दुनिया नक्मस्तक है. जब भी हुकम यूद्ध पर निकल थे तो अपने पास दो तलवारे रखा करते थे. कभी उनके सामने कोई भी सत्रु होता तो महाराणा प्रताप उसको अपनी दूसरी तलवार दिए करते थे. वे कभी किसी निहते पर वॉर नहीं करते थे. महाराणा प्रताप Maharana Pratap के पास बहुत से हत्यार थे और अनेको तरह की तलवारे थी। पर मेवाडो की खानदानी तलवार जिसे राणा सांघा से लेकर महाराणा प्रताप तक ने युद्ध लड़ा वो अध्भूद तलवार थी. उस तलवार का वजन 25 से 45 किलो ग्राम हुआ करता था. इस तलवार तो उधय पुर के म्यूजियम मे रखा हुआ है. दोस्तों जैसा की हम जानते है महाराणा प्रताप का वजन 110 किलो था. और वो 208 किलो वजन के कवज भाले और तलवारे लेकर युद्ध के मैदान में निकाला करते थे. इतना भारी वजन होने के बावजूद चेतक हवा से बाते करके दौड़ता था.

Maharana Pratap's sword - wikifeed
This article is about the greatest swords of Indian history

सम्राट पृथ्वीराज चौहान की तलवार (Prithviraj Chauhan’s sword)

इतिहास में रायपिथौरा और आखरी हिन्दू सम्राट के नाम से मशहूर महान योद्धा पृथ्वीराज चौहान (Prithviraj Chauhan) ने अपने इतिहास में बहुत से युद्ध लड़े कहाँ जाता है की सम्राट के पास 900 साल पुरानी चौहाणी तलवार थी ये चौहान वंश की खानदानी तलवार हुआ करती थी जब भी कोई नया राजा गादी संभाल थे तो उनको राजीय अभिशेख के साथ यह तलवार दी जाती थी. इस तलवार में 4 इंच सोने की मुठ हुआ करती थी. और तेज दमस्तक से बनाई ये तलवार इतिहास के महान यूद्ध तारायण युद्ध के समय यह तलवार सम्राट पृथ्वीराज चौहान के पास ही थी. उस युद्ध के बाद से उस तलवार का जीकर आजतक नहीं मिला है.

Prithviraj Chauhan's sword - wikifeed
This article is about the greatest swords of Indian history

महाराजा रणजीत सिंह की तलवार (Maharaja Ranjit Singh’s sword)

शिरीय पंजाब के नाम से मशहूर महाराजा रणजीत सिंह (Maharaja Ranjit Singh) एक ऐसे योद्धा थे जिन्होंने विपरीत परिस्थियों के बावजूद शिख साम्राजय खड़ा करने में कामयाब रहे. उन्होंने अपने काल में अनेको युद्ध लड़े जिसके बाद उनकी धाक कायम होती चाली गई कहा जाता है की महाराजा टी तलवार को अंग्रेज इंग्लैंड ले गए अभी हाली में महाराज की तलवार तो एक भारतीय दल ने ब्रिटेन में खोज निकाला दरसल महाराजा की ये तलवार भारत में राज करने वाले अंग्रेजो की सेना के एक सैनिक पर मिली सैनिक ने बताया की उसके दादा अंग्रेजो की सेना में सैनिक थे. वो अपने साथ हिन्दुस्थान से ये तलवार लेकर आये थे. इस तलवार की धार पर महाराजा का एक चिन्ह भी बना हुआ है। जिसके निचे छत्र पंजाब लिखा हुआ है. और गुरु मुख लिपि में महाराजा रणजीत सिंह लिखा हुआ है. तब भारत से गए लोग ने तलवार के गुरु मुख लिपि पर देख कर बताया की यह कोई आम तलवार नहीं बल्कि पंजाब के महान योद्धा महाराजा रणजीत सिंह की तलवार है.

Maharaja Ranjit Singh's sword - wikifeed
Maharaja Ranjit Singh’s sword

18 मार्च को इस तलवार की नीलामी हुई 33 इंच लम्बी इस तलवार को भारतीय मूल के वोबड़ीलार ने बहुत बड़ी रकम देकर नीलामी में खरीद लिया।

दोस्तों हमारे देश के बहुत से योद्धाओ के हत्यार इंग्लैंड में पड़े है. और आये दिन अंग्रेज इनको नीलम करते रहते है. और वह भरी रकम कमाते है. अभी हाली में अंग्रेजो ने टीपू सुलतान की नीलामी की जिसमे विजय मालिया ने टीपू सुल्तान की तलवार तो 21 करोड़ रूपये में ख़रीदा इस तलवार की महत पर बाघ बना हुआ था. इसी तरह अंग्रेजो ने टीपू सुल्तान के बहुत हत्यारो को 56 करोड़ रूपये बेका टीपू सुल्तान के हर हत्यार पर बाघ की निसानी बानी हुई है.

tipu sultan sword - wikifeed
This article is about the greatest swords of Indian history

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment