Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity - wikifeed
NEWS

वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी’ का अनावरण

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा का अनावरण…

गुजरात के नर्मदा ज़िले में आज दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी’ का अनावरण होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को आजाद भारत के पहले गृहमंत्री वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा का अनावरण कर दिया 182 मीटर ऊंची यह मूर्ति केवडिया में सरदार सरोवर बांध के पास है.

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity - wikifeed

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के उद्घाटन के अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, मध्य प्रदेश की राज्यपाल और गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल समेत कई बड़े नेता मौजूद थे.

बुधवार को सरदार पटेल की मूर्ति के अनावरण के मौके पर आडवाणी नहीं दिखे. मूर्ति का अनावरण करते हुए मोदी ने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि मुझे सरदार साहब की इस विशाल प्रतिमा को देश को समर्पित करने का अवसर मिला.

जब मैंने गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर इसकी कल्पना की थी, तो कभी अहसास नहीं था कि प्रधानमंत्री के तौर पर मुझे ये पुण्य काम करने का मौका मिलेगा. इस काम में जो गुजरात की जनता ने मेरा साथ दिया है, उसके लिए मैं बहुत आभारी हूं. लेकिन लोग आज सवाल उठा रहे हैं कि गुजरात से ही सांसद, मोदी को आगे बढ़ाने वाले और मूर्ति के शिलान्यास के समय मोदी के साथ दीपक जला रहे आडवाणी उद्घाटन समारोह में क्यों मौजूद नहीं रहे.

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity - wikifeed

सरदार पटेल की यह मूर्ति सरदार सरोवर बांध से 3.2 किमी की दूरी पर साधू बेट नामक स्थान पर है जो कि नर्मदा नदी पर एक टापू है. यह स्थान गुजरात के भरुच के निकट नर्मदा जिले में है. सोमनाथ का मंदिर भी यहां से बहुत दूर नहीं है जहां से आडवाणी ने 1990 के दशक में रथयात्रा शुरू की थी और देशभर में बीजेपी के पक्ष में लहर पैदा की.

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity - wikifeed

बीजेपी के लौहपुरुष कहे जाने वाले आडवाणी एनडीए की पहली सरकार में गृह मंत्री और फिर उपप्रधानमंत्री भी बने. बीजेपी को खड़ा करने के पीछे अटल-आडवाणी की जोड़ी को पूरा श्रेय जाता है. आजाद भारत में वल्लभभाई पटेल भी पहली कांग्रेस सरकार के गृहमंत्री थे, उन्हें भी उप प्रधानमंत्री का पद सौंपा गया था.

जिस तरह सरदार पटेल अपने दृढ़ फैसलों के लिए जाने जाते थे, उसी तरह यह भी माना जाने लगा था कि आडवाणी जो एकबार जो फैसले ले लेते हैं उस पर अटल रहते हैं. भाजपा के लोगों ने पहले उन्हें छोटे सरदार की उपाधि दी, बाद में उन्हें लौहपुरुष भी कहा जाने लगा.

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity - wikifeed

31 अक्टूबर 2013 को नरेंद्र मोदी ने ही सरदार पटेल के जन्मदिवस पर पटेल की मूर्ति का शिलान्यास किया था, तब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे. आडवाणी का कद तब पार्टी में महत्व रखता था. शिलान्यास के मौके पर दोनों एकसाथ दीपक जला रहे थे. यह वह दौर था जब केंद्र की यूपीए सरकार अपने दिन पूरे कर रही थी.

तमाम घपलों और घोटालों के सामने आने से यूपीए सरकार की इमेज खराब हो चुकी थी. बीजेपी ने आक्रामक चुनावी अभियान चलाया और नरेन्द्र मोदी को अपना चेहरा बनाया. इसी के साथ बीजेपी में आडवाणी युग के अवसान और मोदी-शाह युग का उभार शुरू हुआ.

Sardar Vallabhbhai Patel Statue of Unity - wikifeed

दूसरी ओर, आडवाणी पहले से ही पीएम बनने की तमन्ना दिल में पाले बैठे थे. 2009 के चुनाव प्रचार के दौरान आडवाणी पीएम इन वेटिंग के तौर पर देखे गए लेकिन बीजेपी जीत नहीं सकी और यूपीए की सत्ता में वापसी हुई. 2013 आते-आते संघ से हरी झंडी मिलने के बाद मोदी आगे बढ़ चुके थे और आडवाणी को अपना रास्ता तय करना था. सरकार बनने के बाद उन्हें मार्गदर्शक मंडल में लाया गया. तब से आडवाणी सियासी मंचों पर कम ही दिखते हैं.

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.
Loading...

Add Comment

Click here to post a comment