Tej Bahadur yadav nomination canceled in Varanasi lok sabah seat
NEWS Politics

पीएम मोदी के खिलाफ अवाज उठाने वाले बीएसएफ़ जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन पत्र खारिज

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

पीएम मोदी के खिलाफ अवाज उठाने वाले बीएसएफ़ जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन पत्र खारिज

पीएम मोदी के खिलाफ अवाज उठाने वाले tej bahadur yadav bsf बीएसएफ़ जवान तेज बहादुर यादव Tej bahadur yadav का नामांकन पत्र खारिज। नामांकन पत्र खारिज होने के बाद तेज बहादुर यादव ने दावा किया कि उन्होंने चुनाव अधिकारियों को आवश्यक दस्तावेज सौंपे थे. उन्होंने अफसोस जताते हुए कहा,

Tej Bahadur yadav nomination canceled - wikifeed
पीएम मोदी के खिलाफ अवाज उठाने वाले बीएसएफ़ जवान तेज बहादुर यादव का नामांकन पत्र खारिज

“मैंने बीएसएफ BSF में रहते हुए उसी बारे में आवाज बुलंद की, जिसे मैंने गलत पाया. मैंने न्याय की उस आवाज को बुलंद करने बनारस आने का फैसला किया था. अगर मेरे नामांकन में कोई समस्या थी तो एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में दाखिल करने (मेरे कागजात) के समय उन्होंने मुझे इस बारे में क्यों नहीं बताया”

उन्होंने BJP भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर खुद को चुनाव लड़ने से रोकने के लिए “तानाशाही कदम” का सहारा लेने का आरोप लगाया. तेज बहादुर यादव Tej bahadur yadav ने कहा “मेरे दादा आजाद हिंद फौज के साथ थे, मैं एक किसान का बेटा हूं और एक जवान के रूप में सेवा की… मैं अब चुनाव भी नहीं लड़ सकता. यह तानाशाही है”

Tej bahadur yadav case तेज बहादुर ने कहा, फैसले को सुप्रीम कोर्ट में देंगे चुनौती

हालांकि तेज बहादुर ने इस फैसले को गलत ठहराया है और कहा है कि वह इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘मेरा नामांकन गलत तरीके से रद्द किया गया है। मुझे मंगलवार शाम 6:15 बजे तक सबूत देने के लिए कहा गया था, मैंने सबूत दिए भी। इसके बावजूद मेरा नामांकन रद्द कर दिया गया। हम इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट Tej bahadur yadav case जाएंगे।’

तेज बहादुर यादव (Tej Bahadur Yadav) ने 24 अप्रैल को निर्दलीय और 29 अप्रैल को समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर नामांकन किया था. तेज बहादुर यादव (Tej Bahadur Yadav) ने बीएसएफ़ से बर्खास्तगी को लेकर दोनों नामांकनों में अलग अलग दावे किए थे. इसी बिंदु पर जिला निर्वाचन कार्यालय ने यादव को नोटिस जारी करते हुए अनापत्ति प्रमाण पत्र जमा करने का निर्देश दिया था.

वाराणसी के जिला मजिस्ट्रेट सुरेन्द्र सिंह ने जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 9 और धारा 33 का हवाला देते हुए कहा कि तेज बहादुर यादव का नामांकन इसलिये स्वीकार नहीं किया गया क्योंकि वह निर्धारित समय में “आवश्यक दस्तावेजों को प्रस्तुत नहीं कर सके”.

अखिलेश यादव ने कहा,

‘बीजेपी तेज बहादुर के खिलाफ लड़ने से डर रही है, क्योंकि उसे मालूम है कि वह कठिन सवाल पूछते। पूर्व बीएसएफ जवान पूछता कि देश के लिए बुलेट ट्रेन जरूरी है या बुलेटप्रूफ जैकेट।’ उन्होंने कहा कि तेज बहादुर की सिर्फ इतनी गलती थी कि उसने खाने की गुणवत्ता पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी सरकार ने इतनी सी बात पर उन्हें बीएसएफ से निकाल दिया। वाराणसी के लोग ऐसी मानसिकता को अपना समर्थन नहीं देंगे।’

Tej Bahadur yadav nomination canceled - wikifeed
‘बीजेपी तेज बहादुर के खिलाफ लड़ने से डर रही है, क्योंकि उसे मालूम है कि वह कठिन सवाल पूछते। पूर्व बीएसएफ जवान पूछता कि देश के लिए बुलेट ट्रेन जरूरी है या बुलेटप्रूफ जैकेट।

केजरीवाल (arvind kejriwal) ने कहा, देश के जवान से डर गए प्रधानमंत्री

दिल्ली के मुख्यमंत्री और 2014 में मोदी को वाराणसी से आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनौती दे चुके अरविंद केजरीवाल arvind kejriwal ने भी तेज बहादुर के बहाने मोदी पर निशाना साधा।

Tej Bahadur yadav nomination canceled - wikifeed

उन्होंने ट्वीट किया,

‘इतिहास में ऐसे कम मौक़े होंगे जब किसी देश का जवान अपने प्रधानमंत्री को चुनौती देने को मजबूर हो। इतिहास में यह पहला मौका है कि एक प्रधानमंत्री एक जवान से इस कदर डर गए कि उसका मुकाबला करने की बजाए तकनीकी गलतियां निकालकर उसका नामांकन रद्द करा दिया। मोदी जी, आप तो बहुत कमजोर निकले। देश का जवान जीत गया।’

 

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment