Navratri me kya kare - wikifeed
NEWS

भूलसे भी ना करे नवरात्रि में ये 10 काम माँ दुर्गा हो जाएगी क्रोधित

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भूलसे भी ना करे नवरात्रि में ये 10 काम माँ दुर्गा हो जाएगी क्रोधित

दोस्तों इस वर्ष नवरात्रि का पर्व 17 अक्टूबर से शुरू हो गया है, नवरात्रि का ये पर्व 9 दिनों का होता है, इन 9 दिनों के दौरान माँ दुर्गा के 9 अलग – अलग रूपों की पूजा की जाती है. (Navratri me kya kare kya na kare navratri me kya karna chahiye aur kya nahi karna chahiye Navratri 2020) हर वर्ष में नवरात्री का पर्व 2 बार आता है, इनमे से एक नवरात्र को शारदीय नवरात्र तो दूसरी चैत्र नवरात्र के नाम से जाना जाता है. अभी शारदीय नवरात्र की शुरुआत हो गई है, और आज शारदीय नवरात्री के प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजी की जाती है. क्योकि हिन्दू मान्यता में हर त्यौहार मनाने के पीछे कोई न कोई वजह होती है, तो दोस्तों नवरात्री में हमें ऐसे क्या काम करने चाहये जिसे माँ हम पर प्रशन हो जाये और हम पर किरपा करके मान चाहा फल प्रदान करे जो हम करते ही है, पर क्या हम ये जानते है की हमारे किन गलतियों से माँ नराज हो सकती है और हमें उनके क्रोध का सामना करना पड़ सकता है.

Navratri me kya kare - wikifeed

नवरात्र में हमें नहीं करने चाहये ये 10 काम (Navratri me kya kare)

सबसे पहले तो महत्व पूर्ण बात ये है की, माँ आपको व्रत या पूजा पाठ करने पर मजबूर नहीं करती परन्तु यदि आप कोई भी देवी – देवता की पूजा भक्ति विश्वास से करे माँ की आराधना करते समय मन में किसी भी प्रकार की संका या दुर्भावना बिलकुल भी न करे – क्योकि जिस मन में संका या दुर्भावना होती है, वो मन शांत नहीं हो सकता और अशांत मन से पूजा पाट करने में कोई भी तुक नहीं है. मन में माँ की प्रति हमेशा सम्मान की भावनाए रखे.

नवरात्री में किसी भी प्रकार के अपशब्दों का प्रयोग अथवा गाली-गलोच, झूट, चुगली, बुराई इत्यादि बुरी बातो को महुँ से निकालने से बचना चाहये क्योकि जिस मुख से हम माता का पवित्र नाम स्मरण मन्त्र जाप और आरती करते है, उस मुख से निकले वाले शब्द भी पवित्र होने चाहये।

नवरात्री में हर तरह के मॉस, शराब और तम्बाकू आदि का सेवन नहीं करना चाहये क्योकि इसे मनुष्य का मन और मस्तिक पर नयंत्रण नहीं होता है. तान्शीहार शरीर में उष्णता का निर्माण करता है जिसका प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ता है, और शराब, तम्बाकू आदि के क्या दुस्प्रभाव हमारे शरीर पर होते है इनसे हम भली बहाती जानते है, इसलिए जहा तक संभव हो सिम्पल भोजन करे खास कर खट्टी चीजें खाने का परेज करे.

किसी भी जरूरत मंद को और कन्या को अपने घर से खली हाथ नहीं जाने दे किसी की भी मदद करने से माँ बहुत प्रशन होती है हर जरूरत मंद की मदद करने पर माँ की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी और कन्या तो माँ की ही रूप होती है इन दिनों में माँ कन्या के रूप में ही विचरण करती है अथार्त यादि कोई कन्या हमारे घर से खाली हाथ चली गई तो समझो माँ को ही हमने खाली हाथ भेज दिया।

इन दिनों में बाल न कटवाए, दाढ़ी न बनवाये और नाख़ून न कटवाए क्योकि बाल और नाख़ून बढ़ने में हमारे शरीर की ऊर्जा का प्रयोग होता है. और इस समय उपवास आदि करने वाले लोगो को शक्ति की बहुत अवयस्कता होती है.

चमड़े की वस्तुए जैसे बैल्ट, पर्श इत्यादि के उपयोग से बचे क्योकि इसे पशुओ को मार कर बनाया जाता है जो माँ को कभी भी अच्छा नहीं लगेगा।

कलश या अखंड दीपक को यदि घर में रखा है तो उसे छोड़ कर बंद करके जाना नहीं चाहये कलश जो की हमारे आस्था का और माँ के सम्मान का प्रतीक है यदि किसी घरेलू जानवर के दहके से गिर जाये तो ये हमरे लिए बड़ी मुसीबत बन सकता है वहा पर माँ वव्रजमान होती है. और यदि घर में जलता हुआ दीपक गिर जाये तो घर में आग लगकर बड़ी घटना हो सकती है क्यों दिए को भुजने से बचाने के लिए हम इसमें तेल डालते रहते है.

माता का नाम, स्मरण, पाठ, मन्त्र जाप आदि पूरी श्रद्धा और भक्ति पूरी नियमता अनुसार करे माँ की भक्ति करते समय यदि आवस्यकता न हो तो बीच में न उठे क्योकि ऐसा करने आपका ध्यान भटक जाता है.

दिन में न सोये क्योकि विष्णु पुराण के अनुसार नवरात्री के समय दिन में सोना वर्जित है क्योकि इसके पीछे भी एक कहानी है.

मासिक धर्म के समय मन्दिर इत्यादि जाने से बचे चुकी और भी बहुत सी बाते है जो नवरात्री के समय ध्यान में रखनी चाहये यदि हम सब बातो को ध्यान में रखा जाये तो माँ का आशीर्वाद हमेशा बना रहेगा क्योकि नवरात्री शक्ति हर भक्ति का पर्व है.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.