Nitin Gadkari - wikifeed
NEWS

पाकिस्तान का हुक्का-पानी बंद, हिंदुस्तान के चक्रव्यूह में फंसता जा रहा है पाक…

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

पाकिस्तान का हुक्का-पानी बंद, हिंदुस्तान के चक्रव्यूह में फंसता जा रहा है पाक…LIVE: Water of three rivers common with Pakistan will be diverted to Yamuna: Nitin Gadkari

(LIVE: Water of three rivers common with Pakistan will be diverted to Yamuna: Nitin Gadkari – रावी, ब्यास और सतलुज में बहने वाले भारत India के हिस्से के पानी को पाक Pak जाने से रोका जाएगा. केंद्रीय मंत्री गडकरी Union minister Gadkari ने कहा- तीनों नदियों का पानी रोकने के लिए बांध बनेंगे, काम शुरू)

Nitin Gadkari - wikifeed

पुलवामा हमले Pulwama attack के बाद भारत India ने पाकिस्तान Pakistan की ओर जाने वाली तीन नदियों के अपने हिस्से का पानी Water रोकने का फैसला किया है। भारत-पाकिस्तान India Pakistan के बीच 19 सितंबर 1960 को सिंधु जल समझौता हुआ था। इसके तहत रावी, ब्यास और सतलुज पर भारत और झेलम, चिनाब और सिंधु नदियों के पानी के इस्तेमाल पर पाकिस्तान का हक है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी Nitin Gadkari ने गुरुवार को कहा कि बांध बनाकर तीन नदियों का पानी रोकेगा। यह पानी जम्मू-कश्मीर Jammu and Kashmir और पंजाब Punjab में डायवर्ट किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री यहां बालैनी स्थित मेरठ बाईपास Meerut bypass से हरियाणा बॉर्डर Haryana Border तक डबल लेन हाईवे और बागपत Baghpat में यमुना Yamuna के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का शिलान्यास करने आए थे। गडकरी Gadkari ने कहा, तीनों नदियों के पानी को यमुना में भी लाया जाएगा। रावी नदी पर शाहपुर-कांदी बांध बनाने का काम शुरू हो चुका है।

आतंकी हमले के बाद भारत का तीसरा फैसला:

पुलवामा हमले के बाद भारत का पाकिस्तान के खिलाफ यह तीसरा बड़ा फैसला है। इसके पहले सरकार ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा छीन लिया था। फिर वहां से आने वाले सामान पर ड्यूटी 200% तक बढ़ा दी थी।

अभी अपने हिस्से का 20% पानी भी पूरा इस्तेमाल नहीं कर पाता भारत:

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रावी, सतलुज, ब्यास, सिंधु, चिनाब और झेलम नदियों का 80 फीसदी पानी पाकिस्तान में चला जाता है। वहीं, भारत अपने हिस्से का 20 फीसदी हिस्सा भी ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाता है। सरकार का यह कदम इस हिस्से के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल की ओर है।

सिंधु जल संधि 59 साल पुरानी:

भारत और पाकिस्‍तान के बीच 19 सितंबर 1960 को सिंधु जल संधि हुई थी। भारत की ओर से प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति अयूब खान ने इस पर हस्‍ताक्षर किए थे। दोनों देशों के बीच यह संधि विश्‍व बैंक के हस्‍तक्षेप से हुई थी। इसके तहत सिंधु नदी घाटी की 6 नदियों को पूर्वी और पश्चिमी दो हिस्सों में बांटा गया। इसके मुताबिक, रावी, ब्यास और सतलुज पर पूरी तरह से भारत और झेलम, चिनाब और सिंधु पर पाकिस्तान का हक है।

समझौते के तहत भारत को बिजली बनाने और कृषि कार्यों के लिए पश्चिमी नदियों के पानी के इस्तेमाल के भी कुछ सीमित अधिकार हैं। दोनों पक्षों के बीच विवाद होने और आपसी विचार-विमर्श के बाद भी इसका निपटारा नहीं होने की स्थिति में किसी तटस्‍थ विशेषज्ञ की मदद लेने या कोर्ट ऑफ ऑर्बिट्रेशन में जाने का प्रावधान है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.