LIVE Nirbhaya Case - wikifeed
NEWS

Nirbhaya Case: चारों दोषियों को कल सुबह 5:30 बजे तिहाड़ जेल संख्या-3 में दी जाएगी फांसी…

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

LIVE Nirbhaya Case निर्भया के चारों दोषियों की फांसी पर रोक लगाने वाली याचिका दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट खारिज कर दी है।

live nirbhaya case four convicts Mukesh Singh, Pawan Gupta, Vinay Sharma, and Akshay Kumar Singh will be hanged in Tihar jail no 3 tomorrow at 5:30 am.: निर्भया रेप केस में कल यानी शुक्रवार को चारों दोषियों को फांसी दी जानी है। इससे पहले लगाने वाली याचिका दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट (Delhi Patiala House Court) द्वारा खारिज होने पर परिजनों में भारी निराशा है। कुछ देर पहले ही दोषी मुकेश (Mukesh) के परिजन उससे मुलाकात के लिए तिहाड़ जेल (Tihar Jail) पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि तिहाड़ जेल प्रशासन उनकी मुलाकात के लिए नियमों के मुताबिक, कदम उठाएगा। इसी बीच कोर्ट के बाहर दोषी अक्षय की पत्नी पुनीता देवी बेहोश हो गईं। अक्षय ने अपनी पत्नी पुनीता से तलाक लेने के लिए अर्जी डाली थी, लेकिन पुनीता सुनवाई में नहीं पहुंचीं। अब माना जा रहा है कि ये सब फांसी को टालने के लिए किया गया है।

LIVE Nirbhaya Case - wikifeed

वहीं, फैसला आने के बाद निर्भया की मां कोर्ट के बाहर निकलने पर रो पड़ीं। अपनी प्रतिक्रिया में उन्होंने कहा कि अब 7 साल बाद जाकर उनकी बेटी को न्याय मिलने जा रहा है। इससे पहले बृहस्पतिवार को कोर्ट ने दोषियों की फांसी पर रोक लगाने की मांग खारिज कर दी। कोर्ट के इस फैसले के बाद शुक्रवार सुबह 5:30 बजे चारों दोषियों विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय कुमार सिंह को तिहाड़ जेल संख्या-3 में फांसी दी जाएगी।

अक्षय ने डाली है तलाक की अर्जी

अक्षय ठाकुर की पत्नी पुनीता देवी ने कोर्ट में तलाक की अर्जी डाली हुई है। इस पर कोर्ट औरंगाबाद के पारिवारिक न्‍यायालय में आज ही सुनवाई भी होनी थी, लेकिन पुनीता देवी सुनवाई के वक्त वहां नहीं पहुंची। ऐसे में सुनवाई को 24 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई है। बता दें कि 20 मार्च यानी कल ही चारों दोषियों को फांसी दी जानी है। ऐसे में माना जा रहा है कि ये सब फांसी की सजा को टालने के लिए किया गया हो।

दोषियों के वकील ने कहा भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर भेज दो

वहीं, कोर्ट के फैसले पर दोषियों के वकील ने कहा है कि इन्हें भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर भेज दो या फिर डोकलाम (भारत-चीन बॉर्डर) भेज दो, लेकिन फांसी मत दो। वे भारत-पाक या फिर चीन-भारत बॉर्डर पर देश की सेवा ही करेंगे। साथ ही कहा कि वे इस बाबत एक एफिडेविट भी देंगे।

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को कहा कि निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में कानूनी राहत पाने के लिए चारों दोषियों की किसी भी अदालत ने कोई याचिका लंबित नहीं है। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेन्द्र राणा को सरकारी अभियोजक ने बताया कि दोषी अक्षय कुमार सिंह और पवन गुप्ता की दूसरी दया याचिका पर सुनवाई किए बिना उसे इस आधार पर खारिज कर दिया गया कि पहली दया याचिका पर सुनवाई की गई थी और यह अब सुनवाई के योग्य नहीं है।

चारों दोषियों की फांसी तय

मामले के चारों दोषियों में से तीन ने उनकी मौत की सजा पर रोक लगाने की मांग करते हुए दिल्ली की एक अदालत का रुख किया था और कहा था उनमें से एक की दूसरी दया याचिका अब भी लंबित है। पांच मार्च को एक निचली अदालत ने मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को फांसी देने के लिए नया मृत्यु वारंट जारी किया था। चारों दोषियों को 20 मार्च सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दी जाएगी।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

1 Comment

Click here to post a comment