Karwa Chauth Puja Shubh Muhurat - wikifeed
NEWS

सुहागन महिलाएं आज के दिन चंद्रमा दर्शन के वक्त करे इस मंत्र का करें जाप

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

सुहागन महिलाएं आज के दिन चंद्रमा दर्शन के वक्त करे इस मंत्र का करें जाप

हिंदू धर्म में सुहागिनें महिलाएं पूरे साल करवा चौथ व्रत का इंतजार करती हैं। पति की लंबी उम्र व बेहतर स्वास्थ्य के लिए सुहागिन औरतें करवा चौथ पूजा शुभ मुहूर्त (Karwa Chauth Puja Shubh Muhurat) विधि-विधान से पालन करती हैं। करवा चौथ का ये प्रसिद्ध त्योहार अब पूरे देश में बेहद धूमधाम से मनाया जाता है। सुबह ब्रह्ममुहूर्त में ही व्रतियों को उनके बुजुर्गों खासकर सास द्वारा सरगी दी जाती है। इसके बाद महिलाएं सूर्योदय से लेकर जब तक चंद्रदेव के दर्शन न कर लें, तब तक निर्जला व्रत करती हैं। शिव-पार्वती की पूजा और चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही इस व्रत को पूरा माना जाता है।

Karwa Chauth Puja Shubh Muhurat - wikifeed
सुहागन महिलाएं आज के दिन चंद्रमा दर्शन के वक्त करे इस मंत्र का करें जाप

करवा चौथ व्रत स्त्रियों को इन नियमों का पालन करना चाहिए

करवा चौथ व्रत के दिन व्रती स्त्रियों को इस व्रत के नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। कहा जाता है कि करवा चौथ व्रत के दिन सिलाई-कढ़ाई नहीं करनी चाहिए। साथ ही यह भी मान्यता है कि इस दिन व्रती स्त्री को सब्जी नहीं काटने चाहिए और ना ही कटे हुए फल, सब्जी या दाल का सेवन करना चाहिए। इस व्रत में धारदार वस्तुओं का प्रयोग करना मना होता है। इन वस्तुओं में चाकू, कैंची, सूई, तलवार और चौपर शामिल हैं। कहते हैं कि इनका प्रयोग करने से पति का अमंगल हो सकता है। इसलिए प्रयास करें कि आप यह कार्य ना करें।

यह भी पढ़ेअगर पति और पत्नी के बीच में बेवजह झगडा होता है, ‘तो आज के दिन करे ये उपाये’

सुहागन महिलाएं आज के दिन चंद्रमा दर्शन के वक्त करे इस मंत्र का जप

करवा चौथ का एक विशेष मंत्र भी है जिसे रात के समय चंद्रमा दर्शन के वक्त पढ़ा जाता है. ये मंत्र है- ”सौम्यरूप महाभाग मंत्रराज द्विजोत्तम, मम पूर्वकृतं पापं औषधीश क्षमस्व मे।अर्थात हे! अनुवाद – मन को शीतलता पहुंचाने वाले, सौम्य स्वभाव वाले ब्राह्मणों में श्रेष्ठ, सभी मंत्रों एवं औषधियों के स्वामी चंद्रमा मेरे द्वारा पूर्व के जन्मों में किए गए पापों को क्षमा करें.

यह भी पढ़ेकरवा चौथ व्रत की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 33 मिनट से 06 बजकर 39 मिनट तक रहेगा.

प्रात: पूजा के समय इस मन्त्र के जप से व्रत प्रारंभ करें- ‘मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुथीज़् व्रतमहं करिष्ये।’ अब जिस स्थान पर आप पूजा करने वाले हैं उस दीवार पर गेरू से फलक बनाकर चावल को पीसें। इस घोल से करवा चित्रित करें। इस विधि को करवा धरना कहा जाता है।

यह भी पढ़ेKarva Chauth 2020 gift ideas: जानिए कल, करवा चौथ पर अपनी पत्नी को क्या गिफ्ट दे जिससे वो स्पेशल फील करे

पौराणिक कथाओं में भी करवा चौथ की महिमा का बखान किया गया है। कहते हैं कि करवा चौथ का व्रत इतना अधिक प्रभावशाली हैं कि यह पतिव्रता स्त्रियों के पतियों के प्राणों की रक्षा कर सकता है। साथ ही यह भी माना जाता है कि इस व्रत के प्रभाव से पति का स्वास्थ्य भी ठीक रहता है।

करवा चौथ पूजा शुभ मुहूर्त (Karwa Chauth Puja Shubh Muhurat)

करवा चौथ उपासना का समय सुबह 6 बजकर 35 मिनट से रात 8 बजकर 12 मिनट तक रहेगा और करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त आज शाम 5 बजकर 34 मिनट से 6 बजकर 52 मिनट तक। यह भी पढ़ेKarva Chauth 2020: पढ़ें करवा चौथ व्रत से जुड़ी सबसे प्रचलित कथा…साहूकार के सात लड़के

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment