gst bccl | wikifeed.in
NEWS

जानिए:- मोटरसाइकल खरीद ने के लिय क्या अलग-अलग रजिस्ट्रेशन कराना होगा?

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जब काम के संबंध में स्टॉफ और वर्कर पर ऑफिस की ओर से होने वाले खर्चे पर पर जीएसटी के तहत कंपनी का क्या दायित्व है
यदि हम रजिस्टर्ड जीएसटी बिल्डर हैं। हमारे कार्य के दौरान हमारे स्टॉफ/वर्कर द्वारा ऑफिस, साइट या यात्रा के दौरान कंज्यूमर गुड्स और ट्रांसपोर्ट चार्ज वगैरह हमारी फूल पेमेंट करती है, उस अमाउंट पर जीएसटी के तहत हमारा क्या दायित्व बनता है।

कोई भी सामानों को गैर- पंजीकृत व्यक्तियों से खरीदा जाएगा। यदि ऐसा होता है तो आपको जीएसटी का भुगतान तब करना पड़ेगा, यदि ऐसी आपूर्ति का मूल्य एक या अनेक सप्लायरों से प्रतिदिन, एक बार या कई बार में, 5,000 रुपये से अधिक होता है तो आपको ऐसी खरीदों की मासिक इनवॉयस जारी करना जरूरी होगा और आप इनपुट टैक्स क्रेडिट पाने के पात्र होंगे।

हम आयातक हैं, बताएं कि आइजीएसटी का भुगतान कब करना होगा?

आइजीएसटी का भुगतान कस्टम्स पोर्ट से क्लीयरेंस होने के समय करना पड़ेगा। किसी का कोचिंग सेंटर है, जिसका पहले सेवा कर में रजिस्ट्रेशन था।

जानिए सब डीलर के मामले में मोटरसाइकल के रजिट्रेशन के लिए होगी दो इनवॉयस की जरूरत होगी या नहीं
कोई मोटर साइकिल डीलर हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में हमारा सब डीलर्स का नेटवर्क (हालांकि मैन्यूफैक्चरर इसकी अनुमति नहीं देता) है। हमारी 60 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी इन्हीं सब-डीलरों के माध्यम से आती है। जीएसटी लागू होने पर हमें बिल के साथ सब-डीलर को मोटरसाइकिल बेचनी होगी। लेकिन आरटीओ पंजीकरण के लिए सब-डीलर का सेल लेटर ऑथराइज्ड नहीं है। ऐसे में सब-डीलर के बिल के साथ बाइक किस तरह रजिस्टर होगी। एक सबडीलर को बेचने के बाद हम ग्राहक के नाम से भी दूसरा इनवॉयस जारी नहीं कर सकते। कृपया मार्गदर्शन करें।

-यह विषय जीएसटी से संबंधित नहीं है। इस बात का उल्लेख किया जा सकता है कि आपको जीएसटी का भुगतान तब करने की जरूरत पड़ेगी जब आप मोटरसाइकिलों को अपने उप-डीलरों को बेच रहे हों।

जानिए क्या हो राज्य में ऑफिस होने पर दो अलग अलग पंजिकरण कराना होना
हमारी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड है जिसका कॉरपोरेट ऑफिस नोएडा में और रजिस्टर्ड ऑफिस दिल्ली में है। ऐसी स्थिति में क्या हमें दोनों जगहों पर रजिस्ट्रेशन लेना होगा? इसके अलावा हम अलग-अलग राज्यों में इवेंट आयोजन और प्रबंधन का बिजनेस करते हैं, तो क्या इसके लिए हमें उन राज्यों में जीएसटी का अस्थायी पंजीकरण कराना होगा?

– उन सभी राज्यों में पंजीकरण कराना जरूरी है जहां से आपूर्ति हो रही हो।

हम हरियाणा में दुकान करते हैं, हमारा कारोबार सालाना 20 लाख रुपये से कम है। हम दिल्ली से माल मंगाते हैं। अब तक जिससे हम माल मंगाते थे, वह हमें पक्के बिल नहीं देता था। अब वह एक जुलाई के बाद पक्के बिल जीएसटी लगाकर देगा, तो क्या हमें उस माल पर टैक्स देना होगा?

-दिल्ली में रहने वाले आपूर्तिकर्ता के लिए यह जरूरी है कि वह आइजीएसटी का भुगतान करे, जिसकी घोषणा वह आपको जारी किए जाने वाले बिल में करेगा। आपके लिए यह जरूरी होगा कि आप उसे आइजीएसटी का भुगतान करें।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment