Citizenship ACT - wikifeed
Citizenship ACT 10 people arrested in Jamia University violence case
NEWS

नागरिकता कानून: जामिया यूनिवर्सिटी (Jamia University) में हुई हिंसा मामले में 10 गिरफ्तार…

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

नागरिकता कानून: जामिया यूनिवर्सिटी (Jamia University) में हुई हिंसा मामले में 10 गिरफ्तार इनमें एक भी छात्र शामिल नहीं

गिरफ्तार किए गए लोगों में तीन घोषित बदमाश हैं और सभी जामिया और ओखला इलाके के रहने वाले हैं.

Citizenship ACT 10 people arrested in Jamia University violence case: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन के दौरान दिल्ली के जामिया नगर इलाके में हिंसा, आगजनी और तोड़फोड़ के मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं और इनमें कोई भी छात्र नहीं है। बता दें कि साउथ दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में हुई हिंसा के सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने 2 FIR दर्ज कर दी थी।

Citizenship ACT - wikifeed
Jamia University violence case

रविवार को संशोधित नागरिकता कानून Citizenship Amendment Act के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में अराजक तत्वों ने जमकर तांडव मचाया था। उपद्रवियों ने 3 बसों और कुछ अन्य गाड़ियों को फूंक दिया। इतना ही नहीं, आग बुझाने आई दमकल की 4 गाड़ियों में से एक को भी पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया था। इसके अलावा कई अन्य गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई थी। इस हिंसा में पुलिस के 10 और दमकल के 2 कर्मचारी भी जख्मी हुए थे।

सोमवार को दिल्ली पुलिस Delhi police ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया था कि प्रदर्शन में स्थानीय लोगों के शामिल होने से हिंसा फैली। उपद्रवियों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने सीसीटीवी और हिंसा के वायरल फुटेज खंगाले। माना जा रहा है कि 10 स्थानीय लोगों की गिरफ्तारी इसी के आधार पर की गई है।

Citizenship ACT - wikifeed
Citizenship ACT 10 people arrested in Jamia University violence case

पुलिस को शक है कि जामिया के आई कार्ड बनवाकर कुछ लोग प्रदर्शनकारियों में शामिल हुए थे। असली स्टूडेंट्स से कहीं अधिक हिंसा भड़काने में फर्जी छात्रों का हाथ था। हिरासत में लिए गए ऐसे 51 स्टूडेंट्स की पुलिस ने जांच करानी शुरू कर दी है। इनमें से 36 को कालकाजी से और 15 को न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी इलाके से हिरासत में लिया गया था। ये सभी खुद को जामिया Jamia, डीयू के हिंदू कॉलेज और इग्नू के स्टूडेंट होने का दावा कर रहे थे। पुलिस को इनमें से कुछ पर शक है कि उन्होंने जामिया के फर्जी आई कार्ड बनवा रखे थे।

पुलिस और जामिया प्रशासन दोनों का शुरू से कहना है कि हिंसा में छात्रों का कोई हाथ नहीं था। हिंसा में बाहरी लोग शामिल थे जो आगजनी, तोड़फोड़ के बाद जामिया कैंपस में घुस गए थे। उनको पकड़ने के लिए पुलिस भी शाम को कैंपस में घुस गई। पुलिस पर बिना इजाजत कैंपस में घुसने, स्टूडेंट्स और स्टाफ को पीटने, लाइब्रेरी में तोड़फोड़ करने और आंसू गैस के गोले छोड़ने के भी आरोप लगे थे।

Citizenship ACT - wikifeed
Citizenship ACT 10 people arrested in Jamia University violence case

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शांति की अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन प्रदर्शनों को दुखद एवं निराशाजनक बताया और शांति की अपील की. जामिया के छात्रों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई और नागरिकता कानून के खिलाफ गुस्से का असर उत्तर प्रदेश से लेकर केरल और महाराष्ट्र से लेकर पश्चिम बंगाल तक में देखा गया. जामिया के छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष एकजुट हो गया. कांग्रेस के अलावा चार अन्य राजनीतिक दल के नेताओं ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन कर जामिया परिसर में रविवार शाम की घटनाओं की उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की.

Citizenship Amendment Act - wikifeed
Citizenship Amendment Act

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बयान में लगाया आरोप

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बयान में आरोप लगाया, ‘भाजपा हिंसा और बंटवारे की जननी है.’ छात्र प्रदर्शनकारियों ने जामिया विश्वविद्यालय प्रशासन की अनुमति के बिना पुलिस के परिसर में घुसने के साथ जामिया के पुस्तकालय में आंसू गैस का इस्तेमाल करने की जांच कराने की भी मांग की. दिल्ली पुलिस की कार्रवाई को लेकर आईआईटी कानुपर, आईआईटी मद्रास और आईआईटी मुंबई में भी प्रदर्शन हुए, जहां के छात्र प्राय: प्रदर्शनों से दूर रहते हैं. आईआईएम, अहमदाबाद, भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलूरू के छात्रों ने भी प्रदर्शन में हिस्सा लिया. इसके साथ ही मुंबई स्थित टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज में भी प्रदर्शन हुआ. आईआईएम, बेंगलूरू के छात्रों ने जामिया के छात्रों के खिलाफ हुई पुलिसिया कार्रवाई का विरोध करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘केंद्र सरकार एक ऐसा कानून लाकर देश में हिंसा के लिए पूरी तरह जिम्मेदार है जिसका देशभर में विरोध किया जा रहा है और सभी विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं. अगर सरकार यह कानून नहीं लाती तो कोई हिंसा नहीं होती.’ पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के नेतृत्व में कांग्रेस ने इंडिया गेट पर शाम चार बजे से शाम छह बजे तक मूक प्रदर्शन भी किया.

प्रियंका गांधी ने कहा

प्रियंका ने कहा, ‘‘छात्रों पर हमला भारत की आत्मा पर वार है.” वहीं उनकी मां और पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी ने एक बयान जारी कर भाजपा पर देश में अस्थिरता पैदा करने का आरोप लगाया. 

(Citizenship ACT) नागरिकता संशोधन कानून पर पीएम मोदी (PM Modi) का ट्वीट : ‘बहस करें, विरोध नहीं’

एनआरसी (NRC) में देरी : नागरिकता कानून पर विरोध का असर!

Citizenship Amendment Act 2019 : नागरिक संशोधन बिल के विरोध में निकाला जुलूस…

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment