Sports

92 साल में पहला सिल्वर जीतकर देश लौटी सिंधुः 32km तक निकाला गया विजयी जुलूस

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.
हैदराबाद.रियो ओलिंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली पीवी सिंधु सोमवार को देश लौटीं। हैदराबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उनका जोरदार वेलकम हुआ। गछिबोवली स्टेडियम तक मुंबई से मंगाई गई डबल डेकर बस में विजयी जुलूस निकाला गया। 32 किमी चले इस जुलूस के दौरान लोगों ने सिंधु को बधाइयां दीं। स्टेडियम में तेलंगाना सरकार ने उन्हें सम्मानित किया। जल्द ही सचिन तेंडुलकर उन्हें एक BMW प्रजेंट करेंगे। यह कार हैदराबाद बैडमिंटन एसोसिएशन के प्रेसिडेंट ने गिफ्ट की है। बता दें कि ओलिंपिक में सिंधु 92 साल में सिल्वर जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं। मुंबई से मंगाई गई खास डबल डेकर बस, चार घंटे तक चला विजयी जुलूस…
– जुलूस को राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गछिबोवली स्टेडियम तक करीब 32 किमी कोई दूरी तय करने में 4 घंटे लगे।
– यहां तेलंगाना सरकार ने उनके सम्मान में एक प्रोग्राम को ऑर्गनाइज किया था। इस रूट पर लोग जगह-जगह उनके स्वागत के लिए खड़े देखे गए।
– जिस बस में सिंधु का विजय जुलूस निकाला गया, उसे मुंबई से हैदराबाद लाया गया है।
– तेलंगाना सरकार ने मुंबई की बीईएसटी से खुली बस की मांग की थी, जिसके बाद डबल डेकर बस दी गई। इसके साथ स्टाफ को भी भेजा गया है।
– तेलंगाना के आईटी मिनिस्टर केटी रामा राव के साथ दूसरे अफसर इस प्रोग्राम को लीड कर रहे थे।
– बता दें कि तेलंगाना और आंध्र प्रदेश सरकार में सिंधु के वेलकम और पुरस्कार देने को लेकर होड़ सी लगी है। विजय जुलूस के दौरान दोनों सरकारों के मंत्री मौजूद रहे।
सिंधु को लेकर तेलंगाना और आंध्रा में लगी होड़
– दोनों सरकारों के बीच मुकाबला इस बात का है कि कौन सिंधु को कितना पुरस्‍कार देता है।
– आंध्र प्रदेश सरकार ने पहले सिंधु को तीन करोड़ रुपए पुरस्‍कार देने का एलान किया है। उसके बाद तेलंगाना सरकार ने पांच करोड़ रुपए देने का एलान कर दिया। वहीं, पुलेला गोपीचंद बैडमिंटन एकेडमी के पास 1000 वर्ग गज का प्लॉट देने की बात भी चल रही है।
– सिंधु को आंध्रा सरकार की ओर से नौकरी और अमरावती में एक प्लॉट देने पेशकश भी की गई है। हालांकि, अभी तक यह कन्फर्म नहीं हो पाया है कि वह भी सिंधु के सम्मान में कोई प्रोग्राम करेगी या नहीं।
– बता दें कि सिंधु पहले से ही भारत पेट्रोलियम में जॉब करती हैं। सिंधु की मां विजया आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा से हैं तो उनके पिता रमन्ना तेलंगाना के आदिलबाद से हैं।
फाइनल में स्पेन की कैरोलिना मारिन से हारी थी सिंधु
– 21 साल की स्टार शटलर पीवी सिंधु ने शुक्रवार रात को इतिहास रच दिया था।
– फाइनल में सिंधु ने पहला सेट 21-19 से जीता, जबकि कैरोलिना ने दूसरा सेट 21-12 से अपने नाम किया। तीसरे सेट में सिंधु को 21-15 से हार का सामना करना पड़ा।
– 12 साल बाद ओलिंपिक में बैडमिंटन का 80 मिनट लंबा मुकाबला देखा गया।
– बता दें कि ओलिंपिक 1896 से खेले जा रहे हैं। भारत 1924 से ओलिंपिक में महिला एथलीट्स भेज रहा था। उस लिहाज से सिंधु 92 साल में सिल्वर जीतने वाली पहली महिला बनीं।
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Add Comment

Click here to post a comment